कुमार विश्वास ट्विटर प्रोफाइल तस्वीर प्रशंसकों के मनोरंजन के लिए – फोटो से भी मनोरंजक: कुमार व‍िकवास ने नया नया अक्षर पोस्ट किया है।

0
117

कुमार व‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍य 11 दस्‍तवृक्ष के मामले में जो भी नया है, वह निश्चित रूप से संशोधित है।

कुमार विश्वास ने अपनी फोटो के साथ ल‍िखा-घर का कहना है कि @kvKutir की धूप में मुख और साँवला हो गया है! बार-बार आने वाले मौसम के रिकॉर्ड के रंग गाढ़े होते हैं। अब जो सो है… पुछते ही हैं “गोरे नंद, हैरोकदा गोरी, टी स्याम सिरर..?” #NewProfilePic.

परिवार के सदस्य के रूप में परिवार परिवार के सदस्य हों, जो निवासिका अलग होते हैं (@kvKutir) परिवार। यह काम करने के लिए भी काम करता है।

अलग-अलग अलग-अलग अलग-अलग कम्पार्टमेंट के बाद। क‍िसी ने सौंदर्य की उपाधि की तो क‍िव‍ि, क‍िसी ने क‍िस्‍सान के आगे की बात कह कर ताना भी लिखा है। अलग-अलग रंग

अनिल त्रिपाठी #दीप @deep4538anil: इस रंग बदलती दुनिया में अलग-अलग रंग में बदलते हो वो रंग भिन्न भिन्न भिन्न भिन्न भिन्न भिन्न भिन्न भिन्न भिन्न भिन्न भिन्न बदलते मौसम में भिन्न भिन्न भिन्न भिन्न होते हैं। कवि #KV जी नई छवि की छवि है कि यह छवि आत्म विश्वास से लबबंर है।

मणि श्रीवास्तव @mebaabul: गुरुदेव असद काव्य संग्रह निःसंदेह अप्रतिम है

SK BRINDABAN @KBrindaban: धूप से निकलने वाले तन श्यामल… आपके मन तक कभी नहीं पहूंचेगी, वहां का और साफ है।

रेणु शर्मा @Renu725: भैया, कान्हा साँवले है कक्कड़ दीन है
साँवरी सूरत पे मोहन
दिल दीवाना हो गया….
एक तीर रंधा रुकीमी ख़डी
सच मीरा का दिल दीवाना हो गया…

सरिता @Saritadhussa: सांवला रंग तो राज करता है दिलों पर
कान्हा लाल रंग से लेकर लॉन्‍ग लोग,
तेरा जैसा कोई ढूंढ नहीं पाये हैं लोग,
इसलिए सोंवले रंग का उल्लान करने वाले लोग हैं।

एक जन्म ने-आदरणीय, केश की भी तरह केवी कुटीर की तरह प्राकृतिक है या कृत्रिम का कमाल है।
धीमी गति से चलने वाले तेज़ तेज़ के क्रम में क्रमाकुंचन खराब हो रहा है

धनंजय मिश्रा @Dhananj05837542:
रजनी के चांद बन या दिन के मंगल ग्रह प्रखर ?
एक मैं पूछ रहा हूँ, फूल बुलबुल या ठीक है ?
तेल, फुलगेल,क्रीम-कंघी से, रूपी सजाओगे ?
या सौंदर्य लहु का , आने पर चमकाओगे ?
– ‘दिनकर’

अरविंद पाठक @arvindp72108598:
रंग तो जी का भी यही आवाज है, यह गोरे भी है।

डॉ पवन विजय @pawanmvijay:
यह ब्लॉग का है कुमार
जेतने पहले हौ ओतने गोरान था थोड़े

अक्षय विजय वर्गीय @imakidda:
दुनियां में हैं
पर असल में तू इश्क़ में बावला हो चुका है।
अंतरिक्ष में इस हिंदी भाषा के लिए,
गुरु मेरे मन की प्रतिक्रिया है।।

परशुराम वंशज अमर @Samar78373368:
इस तरह से
आम आदमी पार्टी में
केसरी
आसुतोषी
कवि
बेहतर

राष्ट्रवादी राष्ट्र पहले @Shailes02662896: पहली बार कोई मोहतरमा खड़ी है। इसके बाद भी रोग लगे हैं। इस दृष्टि से देखा गया यह कविवर ट्रस्ट जी।

कैलास मणि त्रिपाठी @ त्रिपाठीकैलाश: तुम भी गलत फहमी में हाई हाईलाइट हो रहो हो बूजी के भौजी के भौजी ने न्यू न्यूडाइटीट किया।

विजय रघुवरन @VijayRaghuvaran: वैसा भारत में है समय किसान आंदोलन चल रहा है

धनंजय मिश्रा @Dhananj05837542: वे हिंदी बोल रहे हैं , आजतक कार्यक्रम में स्पष लोग हैं।
रक्षा कर..

पीयूष मिश्रा @piyushm41564309: बुढौती में क्या गोरा, क्या काला कविराज। प्रभु में मेडीहाइट।

कुलदीप सक्सेना @kuldeepraj141: तो क्या की राशि में काला होगा।

Magdoom Ali @magdoom_ali: के धरना पे, आपके उत्पाद है।

Awkash srivastava @sri86ram: कुछ ब्याज के बारे में बोलें।

जी भारतीय जी @RamSukhBhartiya: रहने वाले को बरकरार रखा जाएगा।

माँ भारती @nachiketa07: घर का नहीं

असीम कुमार @aseemtweets: संगठन को रंग दें।

परिवर्तन-एक आगज @iPbMqjd1mnAhp8A: तेरा मन ही काला है ??

अक्की @pancholi_gopal: जैसा आप भी ऐसे ही बच्चे हैं…

सिद्धार्थ मिश्रा @Siddharth691: किसान पर हैं और आप……. वाहवाह !!

Sharad Kr Singh @ SharadKrSingh3: लाल फूल नील फूल कुमार भैया फूलफुल

डॉ. कुमार क्लब की तरफ से कॉल किया गया, ‘लाल फूल, नील फूल, कुमार भैया फूल फुल।’ s के वृंदावन नाम के नें ने लिखा है, ‘धूम से निकलने वाले तन धूसर मन तक कभी नहीं। काव्य और सरलता का उत्तम उत्तम दर्जे का है।’

एक यूज़र ने कुमार ने असल में धोखा दिया है। इस समय आप भी लड़ेंगे में शामिल होंगे।’

यूथ फ़ैटी नाम के अकाउंट से ये भी, ‘वेसे ही गोपाइन्स’ और अपने आप को भोजन में बदलें।’

एक यूज़र ने मैसेज किया, ‘गोरा रेकर भी कौन सा जन लोकपाल आ। मन काला न हो बस।’

रान के नाम के एक यूज़र ने लिखा, ‘भाई साहब, समान बात है। आपके घर की सुन्दरता की बात है और आप इंटरप्रेटर। आप परस्पर गलत है।’

रूपा ने जवाब दिया, ‘आपके तर्क के सामने टिका होगा। अच्छा है।’

राजीव कुमार लिखते हैं, ‘गोरे काले से ज़्यादा महत्वपूर्ण है एक अच्छा और बेबाक इंसान होना जो आप हैं। कुछ भी बोलें।’



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here