9 महीने के अंतराल के बाद गढ़चिरौली में फिर दिखे नक्सली ड्रोन

0
18

नौ महीने के अंतराल के बाद गढ़चिरौली में नक्सली ड्रोन फिर से उभरे हैं।

सितंबर में एटापल्ली तहसील के गट्टा इलाके में और पिछले साल अक्टूबर में जिमलगट्टा, रेपनपल्ली और झिंगनूर गांवों में उन्हें देखने के बाद, लगभग तीन सप्ताह पहले दक्षिण गढ़चिरौली में हलेवाड़ा, दमरांचा और वेंकटपुर के पास ड्रोन मंडराते देखे गए थे।

गढ़चिरौली के पुलिस अधीक्षक अंकित गोयल ने ड्रोन देखे जाने की पुष्टि की। उन्होंने कहा, “ड्रोन को संभवत: पास की पहाड़ी से लॉन्च किया गया था ताकि हम उन्हें पहचान न सकें।”

गढ़चिरौली रेंज के पुलिस उप महानिरीक्षक संदीप पाटिल के अनुसार, गोंदिया जिले में पिपरिया पुलिस चौकी के पास भी ड्रोन देखे गए।

पाटिल ने कहा, “ड्रोन को संवेदनशील चौकियों पर शाम 7 बजे से रात 9 बजे के बीच लाया जाता है, जिससे मूल का पता लगाना मुश्किल हो जाता है।” उन्होंने कहा कि उनका उद्देश्य चौकी में व्यवस्थाओं का अध्ययन करना और नक्सल विरोधी अभियानों पर पुलिस दलों की निगरानी करना है।

यह पूछे जाने पर कि ड्रोन कहां से मंगवाए जा सकते हैं, पाटिल ने कहा, “हमने पाया कि कुछ ड्रोन का इस्तेमाल एटापल्ली शहर में शादियों की शूटिंग जैसे उद्देश्यों के लिए किया जा रहा था। तब पता चला कि उन्हें हैदराबाद से लाया गया था। इसलिए हमें संदेह है कि नक्सली भी उन्हें हैदराबाद से लाए होंगे।

हालांकि, उन्होंने कहा, “वे साधारण ड्रोन हैं, किसी भी हमले को अंजाम देने में असमर्थ हैं और केवल निगरानी के उद्देश्य से उपयोग करने योग्य हैं, लेकिन हम उन पर फायरिंग करके मानक संचालन प्रक्रियाओं का संचालन करते हैं।”

अगर नक्सली ड्रोन के अपने इस्तेमाल को दूसरे स्तर पर ले जाते हैं तो पुलिस खतरे से कैसे निपटेगी, इस पर पाटिल ने कहा, “हम उनका मुकाबला करने के लिए ड्रोन का भी इस्तेमाल कर रहे हैं। हमने ड्रोन रोधी तोपों के आदेश दे दिए हैं और जल्द ही उन्हें अपनी संवेदनशील चौकियों पर तैनात कर देंगे।

.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here