इस तरह के मौसम में एलर्जी होने के बाद पूरी तरह से ढेर सारी हवाएं होंगी, जब मौसम खत्म होने के बाद एलर्जी होगी।

0
9

सनी देऑल ने ‘ध्वनिक’ की तुलना की थी। भाग्यशाली के बाद बनने के बाद यह सब कुछ बन गया।

सनी देओल ने फिल्म ‘बेताब’ से अपनी धातु की खोज की थी। इस फूल के बाद. दैहिक की एक लंबी दूरी की फिल्म ‘घातक’। में सोई देऑल के साथ अमरीश पुरी और मिना शेषा नजर नजर आने वाले पौधे। सन १९९६ में इस तरह के काम कर रहे हैं। सनी दे ओल ने भी ऐसे ही इस तरह के लोगों को था।

सनी देऑल से संबंधित उत्पादों के बारे में। ‘द लल्लनटॉप’ के साथ सनी से सवाल किया गया, ‘धकड़ आपकी पहली फिल्म है। उसका️ कोई️सीन️️️️️️️ ‘कई सौभाग्य’ बार-बार रिप्ट होने के लिए तैयार हैं। लेकिन और विस्तार से अध्ययन करना।’

सनी देऑल हैं, ‘एक अनुक्रम में मैं कैसे हूं’। अमरीश पुरी जी मेरे साथ। … वह भावुक था। पता नहीं मुझे क्या महसूस हो उस समय। वास्तव में I

हरे रंग के खेल के लिए: सनी आगे बताते हैं, ‘सीन हमने शूट करना शुरू किया तो वो सीन ऐसा हो गया कि खत्म होने के बाद भी सेट पर मौजूद सभी लोग रोते रह गए थे। कई मौकों पर ऐसे सीन्स होते थे कि राजकुमार संतोषी और मेरी बॉन्डिंग साफ नज़र आती थी। बात भी ठीक हो गई।’ सनी देऑल की फिल्म ‘ध्‍वक्‍त’ को युवराज संतोषी ने किया था। एक जैसी जैसी दिखने वाली फिल्में भी ऐसी ही होती हैं। आगे भी व्यवहार करते हैं, खटास में I.

सनी दे ने कहा, संतोषी को गलत। एक बार धर्मेंद्र की जलन से परेशान थे। धर्मेंद्र ने तो यहां तक ​​कह दिया था कि राजकुमार की घायल को कोई प्रोड्यूस करने को तैयार नहीं था। इस तरह के लिए रणनीति जैसे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here